बुधवार, 15 अगस्त 2012

देखते होंगे खुद को आइने में और शरमाते भी होंगे

देखते होंगे खुद को आइने में और शरमाते भी होंगे,

सजाते होंगे मन में हमारे सपने और लजाते भी होंगे।

.

एक एक लम्हा मिलन का वो सजोये हैं दिल में अपने,

गुदगुदाते भी होंगे जो उन्हें और कभी रुलाते भी होंगे।

.

ख्वाब में मिलने की कोशिश और नींद आंखों में नहीं,

याद करके हमें रात सारी करवटों में बिताते भी होंगे।

.

बिना कहे ही बहुत कुछ कह जाती है गालों की सुर्खी,

पूछने पर सबब चेहरे को हथेलियों से छिपाते भी होंगे।

.

निहारते हैं घंटों मेरी तस्वीर को किताब में छिपा कर,

और तन्हाई में कभी-कभी अपने होंठों से लगाते भी होंगे।

.

मिलते हैं लोगों से वो लबों पर एक चुप सी लगा कर,

बेपर्दा न हो जाये प्यार कहीं सोच कर घबराते भी होंगे।

.

खुद नहीं करते हैं कभी भूले से मेरी बातों का चर्चा,

पर जिक्र होने पर मेरा खुशी से चहक जाते भी होंगे।

.

उनके हर एक कदम से उठती है नफासत की खुशबू,

कांधों से फिसलता आंचल पल-पल संभालते भी होंगे।

.

हमारे साये ही अब हमारे साथ नहीं चलते

अपनों के बीच हो गये हैं कुछ यूं बेगाने से,

हमारे साये ही अब हमारे साथ नहीं चलते।

.

हमें रुला सकें नहीं थी ताकत इतनी गमों में,

वो खुशी ही इतनी मिली कि आंसू छलक उठे।

.

था पता होगा बहुत ही मुश्किल जिसको पाना,

दिल के अरमान उसी की खातिर मचल गये।

.

खो गया अपना वजूद ही अपने लोगों के बीच,

ढूंड़ने अपने आपको गैरों के बीच चल पड़े।

.

बिना हमें देखे जो बेचैन हुआ करते थे कभी,

वो ही आज सामने से मुंह फेर कर निकले।

.

कल तक बहार थी जिनसे महफिलों की,

देखकर उनको अब सन्नाटे से छाने लगे।

.

फकत कांच का टुकड़ा थे हम किसी के लिए,

खुद को उनके दिल का नगीना समझते रहे।

.

जिन हाथों ने खुदा बनाया पत्थर तराश कर,

वही हाथ आज पूजा के लायक नहीं रहे।

.

रविवार, 12 अगस्त 2012

चाह है जिये जाने की पर मौत का बसेरा है -- ग़ज़ल

चारों ओर इंसान के ज़िन्दगी का अजब घेरा है,

चाह है जिये जाने की पर मौत का बसेरा है।

.

लगा था जो ज़िन्दगी आसान बनाने में,

अब उसी को पल-पल मौत मांगते देखा है।

.

ज़िन्दगी उसको आज करीब से छूकर निकली,

मौत के साथ खेलना तो उसका पेशा है।

.

क्या पता था राह मंजिल की इतनी कठिन होगी,

है घना अंधियारा और दूर बहुत सबेरा है।

.

किसी आवाज या दस्तक पर नहीं कोई भी हलचल,

लगता है जैसे सभी को अनहोनी का अंदेशा है।

.

मुस्कुराहट के पीछे का दर्द बयां कर रही थी आंखें,

सूनी सी आंखों में दर्द का इक दरिया छिपा है।

.

नदारद रात की चांदनी, सुबह की रोशनी है,

ज़र्रे-ज़र्रे पर एक खौफनाक मुलम्मा चढ़ा है।

.

अमन-चैन, प्रेम-स्नेह अब बातें हैं कल की,

सारा माहौल ही इस माहौल से दहशतज़दा है।

.

रिसते ज़ख्म और सिसकते अश्क बनेंगे शोले एक दिन,

हर एक घूंट के साथ लोगों ने कोई अंगारा पिया है।

.